Tag Archives: quatrain

Thought #105: Judgement

Nature always does justice to all,

Nature does not do injustice to anyone,

There are sorrow in the world from its beginning –

There are also opportunities to be cheerful here.

अनुवाद :

प्रकृति सदा सभी के साथ न्याय करती है,

प्रकृति किसी के साथ अन्याय नहीं करती है,

संसार में दुःख है इसके प्रारंभ से –

यहाँ प्रफुल्लित होने के भी अवसर मिलते हैं.

© gayshir 2019

Advertisements

Quote #105/one zero five

In the evening, the struggle started,

Of the human and mosquitoes,

Mosquitoes are more than humans –

Many people defeat in battle.

अनुवाद :

शाम होते ही, संघर्ष शुरु,

मनुष्यों और मच्छरों का,

मनुष्यों की तुलना में मच्छर अत्यधिक हैं –

कई लोग युद्ध में हार गए.

© gayshir 2019

Thought #98/nine eight

Love gets love instead,

Waiting is necessary,

Never at midnight –

A sudden day does not happen.

अनुवाद :

प्यार के बदले प्यार मिलता है,

प्रतीक्षा आवश्यक होती है,

कभी नहीं आधी रात को –

अचानक दिन नहीं हो पाता है.

© gayshir 2019

SL: 112

Design_01-28-03.36.22.JPEG

The world of possibilities,

Is not the end of endless expension,

Is beyond from desire – unwillingness –

Relation of Holy Love ♥ .

 

अनुवाद :

संभावनाओं के संसार का ,

अंत नहीं अनंत विस्तार का,

इच्छा – अनिच्छा से परे है –

सम्बन्ध पवित्र प्यार ♥ का.

 

© gayshir 2019

SL: 109: Happy Raksha Bandhan

Relationship of brother and sister,

Celebrates Raksha Bandhan festival,

Both wish and pray –

To protect and prosper both.

अनुवाद :

भाई और बहन का नाता,

रक्षा बंधन पर्व मनाते हैं,

दोनो कामना और प्रार्थना करते हैं –

दोनो की रक्षा और समृद्धि के लिए।

By : Gayshir

© gayshir 2019