pic&words: 471

pic : self

Beauty on greenery

© gayshir 2019

Advertisements

Thought #105: Judgement

Nature always does justice to all,

Nature does not do injustice to anyone,

There are sorrow in the world from its beginning –

There are also opportunities to be cheerful here.

अनुवाद :

प्रकृति सदा सभी के साथ न्याय करती है,

प्रकृति किसी के साथ अन्याय नहीं करती है,

संसार में दुःख है इसके प्रारंभ से –

यहाँ प्रफुल्लित होने के भी अवसर मिलते हैं.

© gayshir 2019