Category Archives: thought

Thought #112: Live-Die

Complication does not let alive –

The dream doesn’t let die.

अनुवाद :

उलझन जीने नहीं देती –

सपना मरने नहीं देता.

© gayshir 2019

Advertisements

Thought #105: Judgement

Nature always does justice to all,

Nature does not do injustice to anyone,

There are sorrow in the world from its beginning –

There are also opportunities to be cheerful here.

अनुवाद :

प्रकृति सदा सभी के साथ न्याय करती है,

प्रकृति किसी के साथ अन्याय नहीं करती है,

संसार में दुःख है इसके प्रारंभ से –

यहाँ प्रफुल्लित होने के भी अवसर मिलते हैं.

© gayshir 2019

Thought #98/nine eight

Love gets love instead,

Waiting is necessary,

Never at midnight –

A sudden day does not happen.

अनुवाद :

प्यार के बदले प्यार मिलता है,

प्रतीक्षा आवश्यक होती है,

कभी नहीं आधी रात को –

अचानक दिन नहीं हो पाता है.

© gayshir 2019