artpens

thought

You: Thought #171

Poster
Created by Hare Krishna Singh

You sing because life is music.

There is speed and love in the beats.

© 2021 artpens.net

Thought #169: Don’t become the cause of suffering yourself

Do not hide the misery,

Garbage will be filled inside,

When the garbage will rot completely –

Severe disease will occur.

अनुवाद :

दुख को मत छुपाओ,

अंदर कूड़ा भर जाएगा,

कूड़ा जब पूरी तरह सड़ जाएगा –

भीषण बीमारी उत्पन्न हो जाएगी।

© 2021 artpens.net

Thought #160: Thinking

The world gave life,

What gave to the world,

Thinking and doing necessary –

For human and human interest.

अनुवाद :

संसार ने जीवन दिया,

दुनियाँ को क्या दिया?

सोचना और करना आवश्यक –

मानव और मानव हित हेतु।

© 2020 artpens.net

Thought #158: Reaction

Flowers are punished for smiling.

Breaking them is big mistake of human..

अनुवाद :

फूल को मुस्कुराने की सजा मिलती है।

इन्हें तोड़ना इन्सान की बड़ी ग़लती है।।

© 2020 artpens.net

Thought #157: For New

To exfoliation something,

To join something,

Comes many turns –

In new construction.

अनुवाद :

कुछ छूटने के लिए,

किसी चीज़ से जुड़ना,

कई मोड़ आते हैं –

नए निर्माण में.

© 2020 artpens.net

Thought #155: Beauty

Reality and beauty are manifested by cleanliness.

Everyone has a desire to see beauty..

अनुवाद :

स्वच्छता से वास्तविकता और सुन्दरता प्रकट होती हैं.

सुन्दरता के दर्शन हो सभी की इच्छा होती है.

© 2020 artpens.net

Thought #154: Big Mistake

Knowledge is limitless,

Life is limited,

We are highly intelligent –

Biggest misunderstanding.

अनुवाद :

ज्ञान असीम है,

जीवन सीमित है,

हम अत्यधिक बुद्धिमान हैं –

सबसे बड़ी ग़लतफ़हमी है.

© 2020 artpens.net

Thought #153: Dreams & Life

After sleep, dreams do not live with.

Life lives together in sleep and awakening..

अनुवाद :

नींद के बाद सपने साथ नहीं रहते हैं.

जीवन नींद और जागरण में साथ रहता है..

© 2020 artpens.net

Thought #146: Remorse

The story of the night does not repeat the day.

On who sleeps during the day regrets at the night..

अनुवाद :

रात की कहानी दिन नहीं दुहराता है.

दिन में सोने वाला रात में पक्षताता है..

© 2020 artpens.net

Thought #145: Someone’s Soul

Pain and scream is the basis for this,

Is an extension of the retribution of nature,

Corona is not only a corona –

It is the shape of the soul of innocent creatures.

अनुवाद :

दर्द और चीत्कार इसका आधार है,

प्रकृति के प्रतिकार का विस्तार है,

कोरोना केवल कोरोना नहीं है –

यह निर्दोष जीवों की आत्मा का आकार है.

© 2020 artpens.net