Category Archives: poem

Poem: Meeting

He/She is in front,

Look eyes open,

He/She will meet you,

Look step by step –

Yours will meet with him.

अनुवाद :

वह सामने है,

आँखें खोलकर देखो,

वह तुमसे मिलेगा,

देखो क़दम बढ़ाकर –

आप उससे मिलेंगे।

© gayshir 2019

Poem: Denigrate

Nature loves with all,

Love is in all,

There are some who –

Denigrate love are,

Nothing of love worsens,

They denigrate themselves.

अनुवाद :

प्रकृति सभी से प्यार करती है,

सभी में प्रेम समाहित है,

कुछ ऐसे हैं जो –

प्यार को बदनाम करते हैं,

प्यार का कुछ नहीं बिगड़ता,

वे स्वयं को बदनाम करते हैं।

© gayshir 2019

Poem: With Love

I before this,

I was not afraid of anyone.

Now I am afraid of him,

Because I love with her –

The world is from love.

अनुवाद :

इससे पहले मैं,

मैं किसी से नहीं डरता था।

अब मुझे उससे डर लगता है,

क्यौंकि मुझे उससे प्यार है –

दुनियाँ प्यार से है।

© gayshir 2019