artpens

Nature

Haiku #157/one five seven

Drinking water from rain ~

Available in the ground ~

Moisture in the mountains – – –

अनुवाद :

बारिश से पीने का पानी ~

धरातल में उपलब्ध ~

पहाड़ों में नमी – – –

© gayshir 2019

Haiku :154/one five four

Firstly soft and bold ~

Morning love of nature for all ~

The sun as gold – – –

अनुवाद :

सबसे पहले नरम और साहसिक ~

सभी के लिए प्रकृति का प्रातः प्रेम ~

सोने के रूप में सूरज – – –

© gayshir 2019

Thought #111: Nature

Nature has many arts –

Nature is the creater of artists.

अनुवाद :

प्रकृति की कई कलाएं हैं –

प्रकृति कलाकारों की निर्मात्री हैं.

© gayshir 2019

Poem: 112: Perfection

The waterfall flows –

To river,

The waterfall says,

Flow is necessary,

For the simple,

For improvement,

To search,

To thirst,

For satisfaction –

To perfection.

अनुवाद :

झरना बहता है –

नदी के लिए,

झरना कहता है,

बहना आवश्यक है,

साधारण के लिए,

महत्वपूर्ण के लिए,

खोज के लिए,

प्यास के लिए,

संतुष्टि के लिए –

पूर्णता के लिए.

© gayshir 2019

Haiku #152/one five two

The moon of eight days ~

Everything needs power to run ~

All the stars go on – – –

अनुवाद :

आठ दिनों का चंद्रमा ~

हर बात को चलने के लिए शक्ति चाहिए ~

सभी सितारे चलते हैं – – –

© gayshir 2019

Quote #110/one one zero

qd_02-20-043191707406223626361.jpeg

After the night, in the darkness, morning’s chirm,

In the silence, fresh air and charm remains,

Approximately in between midnight and noon –

As the exception is rush or loud sound.

अनुवाद :

रात के बाद, अँधेरे में, सुबह की आहट,

मौन में ताज़ा हवा और आकर्षण रहता है,

लगभग आधी रात और दोपहर के बीच –

अपवाद के रूप में भीड़ या तेज़ ध्वनि है.

 

© gayshir 2019

 

Haiku #151

Morning of daily ~

Different day from night is ~

The sun and the moon – – –

अनुवाद :

रोज़ की सुबह ~

रात से अलग दिन है ~

सूरज और चंद्रमा – – –

© gayshir 2019

Haiku #150/one five zero

hd57_03-09-10-1058376986.jpeg

Sun are shining ~

Half of the earth is obscure ~

The moon and star are —

अनुवाद :

सूरज चमक रहे  हैं ~

पृथ्वी का आधा हिस्सा अस्पस्ट है ~

चाँद और तारे है —

 

© gayshir 2019