Category Archives: Nature

CINQUAIN #53: Flower

Flower

White, colorful

Smiling, blooming, laughing

Being Happy is Healthy

Bloom

© gayshir 2019

Advertisements

Thought #105: Judgement

Nature always does justice to all,

Nature does not do injustice to anyone,

There are sorrow in the world from its beginning –

There are also opportunities to be cheerful here.

अनुवाद :

प्रकृति सदा सभी के साथ न्याय करती है,

प्रकृति किसी के साथ अन्याय नहीं करती है,

संसार में दुःख है इसके प्रारंभ से –

यहाँ प्रफुल्लित होने के भी अवसर मिलते हैं.

© gayshir 2019

Poem: 107: Speed And Story

Design _02-04-04.16.59.JPEG

The river flows –

Keeps pace,

Now any proud.

She goes away,

Dries up,

Nevertheless –

The mark remains,

The story stays.

अनुवाद :

नदी बहती है –

रफ़्तार बनाए रखती है,

कोई अभिमान नहीं.

वह चली जाती है,

सूख जाती है,

फिर भी –

चिन्ह रह जाता है,

कहानी रहती है.

 

© gayshir 2019