artpens

4Rows

4R: 27: Almighty

Poster
Poster

लोग झुक जाते हैं।

मुहब्बत नहीं झुकता है।

प्रेमी सो जाते हैं।

प्यार नहीं सोता है।

/

People bow down.

Love doesn’t budge.

Lovers fall asleep.

Love doesn’t sleep.

© 2022 artpens.net

4R: 26: Conditions

Poster
Poster

कितनी कठिन है ज़िन्दगी?

पूछो उन जीने वालों से।

जो नया नहीं खरीद सकते –

पूछो फटे कपड़े सिलने वालों से।

/

How hard is life?

Ask whose living.

Who can’t buy new –

Ask those who sew torn clothes.

© 2022 artpens.net

4R: 25: After Midnight

रात चल रही है।

बात चल रही है।

गहरी नींद की –

बारात चल रही है।

/

Night is waking.

Talk is going on.

Of deep sleep –

The procession is going on.

© 2022 artpens.net

4R: 24: Say

Poster
Poster

बेहोश होकर भी।

होश में रहना पड़ेगा।

अपना ग़म या ख़ुशी –

दोस्तों से कहना पड़ेगा।

/

Even unconscious.

You have to be aware.

Your sorrow or happiness –

Have to say to friends.

© 2022 artpens.net

4R: 23: Bids

Poster
Poster

तुम चलो।

रास्ते कहते हैं।

मंज़िल ख़ूबसूरत है –

इस वास्ते कहते हैं।

/

You come on.

Calls the ways.

The destination is beautiful –

For this it is says.

© 2022 artpens.net

4R: 22: Moving

Poster
Poster

Time goes on.

We go.

Here or there –

Colors change.

/

समय चलता है।

हम चलते हैं।

यहाँ या वहाँ –

रंग बदलते हैं।

© 2022 artpens.net

4R: 21: Lock

Poster
Poster

वहाँ रोशनी के अच्छे इंतजाम है।

नया मेहमान आने वाला है।

उसके साथ के साथी भी आएंगे –

औरों के लिए बन्द ताला है।

/

There are good arrangements for light.

A new guest is about to arrive.

His companions will also come –

There is a closed lock for others.

© 2022 artpens.net

4R: 20: Night

Poster
Poster

दिन का दोस्त, बिछड़ गया।

इधर रात, वो उधर गया।

शाम तक थी, उसकी बात –

दूर अंधेरे में, डगर गया।

/

Friend of the day, lost.

Here night, there he went.

It was till the evening, his talk –

Far in the dark, the road went.

© 2022 artpens.net

4R: 19: Listen

Poster
Poster

कुछ देर ठहरो।

फिर चले जाना।

अभी बाक़ी है –

दिल का बताना।

/

Wait a while.

Then go away.

Still left –

Inform of heart.

© 2021 artpens.net

4R: 18: Memory

Poster
Poster

रात के बाद।

मुलाक़ात के बाद।

याद रहती है –

बात के बाद।

/

After night.

After the meeting.

Memory remains –

After the talk.

© 2021 artpens.net

4R: 17: Talks

Poster
Poster

एक दरिया है।

‘गयशिर’ बहता है।

दिन और रात –

कुछ कहता है।

/

There is a river.

‘Gayshir’ flows.

Day and night –

Says something.

© 2021 artpens.net

4R: 16: Passed

Poster
Poster

यहाँ दोपहर बीता।

वहाँ आधी रात बीती।

तेरे और मेरे बीच –

बहुत सारी बात बीती।

/

Here passed afternoon.

Passed midnight there.

You and between me –

A lot has happened.

© 2021 artpens.net

4R: 15: Before Dawn

Poster
Poster
दिन की ख़बर नहीं मिली।
पाँच बज गये।
रात भर जल रही थी बाती -
अब भी जल रहे हैं दिये।
/
News of the day not received.
It's five o'clock.
The wick was burning all night -
The lamps are still burning.

© 2021 artpens.net

4R: 14: Happiness

एक दिन के बाद दूसरा आता है।
जाने-आने का पुराना नाता है।
जो अंधेरे में दिखाई नहीं देता -
दिन में फूल की तरह मुस्कुराता है।
Poster
Poster
After one day another comes.
There is an old relationship of going-coming.
That can't be seen in the dark -
Smiles like a flower during the day.

© 2021 artpens.net

4R: 13: Attention

Poster
Poster
भोजन सावधानी से करना चाहिए, नहीं तो गड़बड़ हो जाता है।
काम भी सावधानी से करना चाहिए, नहीं तो बिगड़ जाता है।
यहाँ खाने की बहुत सारी चीजें और करने के कई काम हैं।
अगर सब कुछ सही है तो जीवन संवर* जाता है।
*संवर: संवरना: embellish
/
The food should be done carefully, otherwise it gets mess.
The work also wants to be done with caution, otherwise it gets spoiled.
There are many things to eat and many tasks to do here.
If everything is right then life be embellises.

© 2021 artpens.net

4R: 12: Awesome

Poster
Poster
तुम्हारी तस्वीर के सामने एक भीड़ सी लगी है।
जब तुम आ जाओगी तो न जाने क्या होगा?
आपस में लोगों के चुपचाप कुछ बातें हो रही हैं।
तब हक़ीक़त में, बहुत ख़ूबसूरत नज़ारा होगा।
/
There is a crowd is in front of your picture.
I don't know what will happen when you come?
Some things are happening quietly amongst people.
Then in reality, it will be a very beautiful sight.

© 2021 artpens.net

4R: 10: From You

4R Poster
4R Poster
दिल और दिमाग़ तुमसे।
बर्फ़ और आग तुमसे।
सारे दरिया और समन्दर -
दुनियाँ के बाग़ तुमसे।
/
Heart and mind from you.
Ice and fire from you.
All the rivers and seas -
The gardens of the world from you.

© 2021 artpens.net

4R: 09: Unequal

4R Poster
4R Poster

हर रोज़ आसान नहीं होता है।

जमीन पर आसमान नहीं होता है।

वक़्त और ताक़त की ज़रुरत पड़ती है –

बदन कोई सामान नहीं होता है।

/

Everyday is not easy.

There is no sky on the ground.

It takes time and energy –

The body is not a commodity.

Uncommon

© 2021 artpens.net

4R: 08: Continuity

4R Poster
4R Poster

वक़्त कहते रहता है।

वक़्त सुनते रहता है।

कोई चले या न चले –

वक़्त बहते रहता है।

/

Time keeps telling.

Time keeps on listening.

Whether one walks or not –

Time keeps on flowing.

© 2021 artpens.net

Friendship: 4R: 07

4R Poster
4R Poster
आप आए हैं।
हम पाए हैं।
साथ मिलकर -
दोनों साथ बिताए हैं।
/
You have come.
We have found.
Get along together -
Both have spent together.

© 2021 artpens.net

4R: 06: Before And After

Poster
Created by Hare Krishna Singh

कोशिशों से कामयाबी मिलती है,

ज़िन्दगी की सूरत बदलती है,

अंधेरे ग़ायब हो जाया करते हैं

जहाँ पर रोशनी मचलती है।

/

Efforts lead to success,

The face of life changes,

The darkness disappear –

Where the light shines.

© 2021 artpens.net

4R: 05: Demolished

Poster
Created by Hare Krishna Singh

हमलावर ने दीवार गिराई,

लोगों ने अपनी जान गंवाई,

वो जान की भीख मांग रहे थे –

बेरहम ने हथियार चलाई।

/

The attacker demolished the wall,

People lost their lives,

They were begging for life –

Ruthless fired a weapon.

© 2021 artpens.net

Characteristic: 4R: 04

Poster
Created by Hare Krishna Singh

चाँद का चमकदार टुकड़ा,

उसका ख़ूबसूरत मुखरा,

शायर अक्सर कहते हैं –

ऐसा नहीं कोई दूसरा।

/

The shining piece of the moon,

Her beautiful face,

Poets often say –

No one else like this.

© 2021 artpens.net

4R: 03: Conditions

Poster
Created by Hare Krishna Singh

पत्थर टूट कर बिखर गया,

कुछ इधर गया कुछ उधर गया,

कुछ का रूप मिट्टी में मिल गया,

कुछ गाँव में कुछ शहर गया।

/

The stone broke and scattered,

Some went here, some went there,

Form of some got in the soil,

Some went to the village, some went to the city.

© 2021 artpens.net