SENRYU #36/three six

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinवह उत्थान ~ संभव है सम्मान ~ क्यों अपमान — translation : That uplift ~ Possible is honor ~ Why insult — © gayshir 2019 Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinवह उत्थान ~ संभव है सम्मान ~ क्यों अपमान — translation : That uplift ~ Possible is honor ~ Why insult — © gayshir 2019 Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open life, senryu
Read more

Thought #30: Prize

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin image : google बेकार बैठे, काम नहीं होता है, मुफ़्त में, नाम नहीं होता है। खून जलता, फिर चलता है दिमाग़, कोई सस्ता, इनाम नहीं होता है। translation : Sit idle, does not

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin image : google बेकार बैठे, काम नहीं होता है, मुफ़्त में, नाम नहीं होता है। खून जलता, फिर चलता है दिमाग़, कोई सस्ता, इनाम नहीं होता है। translation : Sit idle, does not

folder_open poem, thought
Read more

Pic: 234: RW~174: Yellow

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Pic : Self Yellow leaf between many leaves. Such as one king leaf in leaves.. अनुवाद : कई पत्तों के बीच पीला पत्ता | जैसे पत्तों में एक राजा पत्ता || © gayshir

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Pic : Self Yellow leaf between many leaves. Such as one king leaf in leaves.. अनुवाद : कई पत्तों के बीच पीला पत्ता | जैसे पत्तों में एक राजा पत्ता || © gayshir

Read more