poem

ख़ुशी फैलाते हैं / Happiness Spreads

Image : Google

आम के बगीचे में,

फ़सल का मौसम है,

फलों से पेड़ भरे हैं।

आँधी का भय,

नुकसान का डर,

नहीं रहता बराबर-

हर साल का समय।

हर हाल में कृषक-

अपने कार्य करते हैं,

उत्तरदायित्व निभाते हैं,

प्रकृति के अनुसार-

हँसते हैं,

गाते हैं,

अपने परिश्रम से-

आनन्द उपजाते हैं,

ख़ुशी फैलाते हैं।

English Version :

In the mango garden,

The harvest season is,

There are filled with fruits.

Fear of the storm,

Fear of loss,

Does not remain equal –

Time of every year.

At all time the farmer –

Do your work,

Take responsibility,

According to nature –

Let’s laugh,

Let’s sing,

From your hard work –

Delight grows,

Happiness spreads.

© gayshir 2018