निश्चित है…/Is Sure…

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Image:Google कोई क्या कहे? प्रकृति कहती है, दिखाती है दृश्य, दृष्टि के अनुसार, अवसर देती है- कई बार सम्भलने का, समझाती है, क्षमा करती है- क्षमा की सीमा तक। कार्य का परिणाम, विलम्ब

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Image:Google कोई क्या कहे? प्रकृति कहती है, दिखाती है दृश्य, दृष्टि के अनुसार, अवसर देती है- कई बार सम्भलने का, समझाती है, क्षमा करती है- क्षमा की सीमा तक। कार्य का परिणाम, विलम्ब

folder_open poem
Read more