संसार के लिए समझौता/Compromise For The World

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Image:Google खिड़की खुलते ही, दिखते थे दोनो- पीपल और नीम के पेड़। एक के नीचे खंडहर, दूसरे के नीचे भवन, दोनो बसेरा था- पशु-पक्षियों का। एक रात आँधी आई, अकेला रह गया पीपल,

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Image:Google खिड़की खुलते ही, दिखते थे दोनो- पीपल और नीम के पेड़। एक के नीचे खंडहर, दूसरे के नीचे भवन, दोनो बसेरा था- पशु-पक्षियों का। एक रात आँधी आई, अकेला रह गया पीपल,

folder_open poem
Read more