निश्चित प्रभाव/Certain Effect

Back Pic:Self Clicked तुम कहते हो, वह सुनता है, कुछ अदृश्य जैसा, सम्बन्ध बनता है। मन में स्मरण, मस्तिष्क में ध्यान, शुभेक्षा उसके प्रति- स्वप्न बुनता है। सत्य में शान्ति, नहीं रहती भ्रान्ति, निश्चित और

Advertisements
event_note
close

Back Pic:Self Clicked तुम कहते हो, वह सुनता है, कुछ अदृश्य जैसा, सम्बन्ध बनता है। मन में स्मरण, मस्तिष्क में ध्यान, शुभेक्षा उसके प्रति- स्वप्न बुनता है। सत्य में शान्ति, नहीं रहती भ्रान्ति, निश्चित और

Advertisements
folder_open poem
Read more