अच्छा संयोग

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin घास की आड़ में- जड़ में दीवार के, शिकारी छुपा था, करने को शिकार। बिलांग भर ऊपर, शिकार का घर, बाहर थे बड़े, बच्चे ताक-झांक में, मग्न थे- खेल में, ख़तरों से अन्जान।

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin घास की आड़ में- जड़ में दीवार के, शिकारी छुपा था, करने को शिकार। बिलांग भर ऊपर, शिकार का घर, बाहर थे बड़े, बच्चे ताक-झांक में, मग्न थे- खेल में, ख़तरों से अन्जान।

folder_open poem
Read more