काला कुत्ता रास्ता काटा

क्या बताउँ उस दिन?

क्या हो गया साथ?

याद नहीं कुछ देर की,

शेष सभी स्मरण साथ –

दुपहिया वाहन और चौड़ी सड़क –

जैसे नया काला कपड़ा कड़क,

लेकिन थी विभाजक/डिवाइडर बिन ।

एक तरफ़ एक दुकान –

दुसरी ओर बियाबान ।

आगे-पीछे कोई नहीं ,

सामने साफ़-सुथरा ।

तीव्र और उचित गति ,

निर्विकार शुद्ध मति ,

कोई नहीं देख पाया !

तेज दौड़ता काला कुत्ता,

रास्ते को बेझिझक काटा।

निश्चिंत चलता वाहन टकराया ,

चालक का पैर फंसा ,

दुपहिया के नीचे ,

साथी वाहन के पीछे ,

सम्भल कर खड़ा होते हुए।

सहायता को लोग आए,

मनुष्य मनुज के काम आए।

गाड़ी छतिग्रस्त हुई,

दोनों सवारी चोट खाई,

बड़े संयोग की बात !

बहुत होके कम हुआ ,

जीवन को सुरक्षित पाया ।

सरकारें सड़कें बनवातीं हैं,

वचन निभातीं हैं,

रह जाती हैं बड़ी-बड़ी चूकें-

विभाजक बिन राष्ट्रीय राजमार्ग-

आमन्त्रण देती घटनाओं को,

रूप देती दुर्घटनाओं को,

ठगे जाते हैं लोग-

होते हैं घायल व अपंग,

बड़ा ही दुखद कुछ –

अन्त को पाते हैं।

:- गयशिर

Advertisements
local_offerevent_note February 5, 2018

account_box Hare Krishna 'Gayshir'

  • Hare Krishna 'Gayshir'

    I completed my Bachelor of Fine Arts in 1999 and Master of Fine Arts in 2001 from Banaras Hindu University, Varanasi. During this period, I earned Diploma in Vocal Music, Photography and Yoga from the same university. Between 2001 and 2004, I worked independently in the field of Art and Literature. I joined as an Art Teacher in Uttar Pradesh, India on dated October 11,2004 and since then I have been working to till now.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.