प्रेम है/Love is

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Love as many, The eternal is beginning of a, From God open- The holy and novel. Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Love as many, The eternal is beginning of a, From God open- The holy and novel. Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open Some Lines
Read more

एक चर्चा /A Discussion

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin The day would have passed, Regrets will remain. Find not found, Not found, The addition will be staying. Become forgotten, The night was, Thing been sleeping, Mind him of- Feint will be staying.

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin The day would have passed, Regrets will remain. Find not found, Not found, The addition will be staying. Become forgotten, The night was, Thing been sleeping, Mind him of- Feint will be staying.

folder_open poem
Read more

सुगंध आया

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin व्यतीत हो चुका है- रात्रि का प्रथम प्रहर, नयनों में नींद का आगमन। पवन ने रुख बदले, रजनीगंधा का सुगंध आया- सुगंधित हो उठा वातावरण। उत्पत्ति देश मैक्सिको की, विश्व के चुनिन्दा देशों

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin व्यतीत हो चुका है- रात्रि का प्रथम प्रहर, नयनों में नींद का आगमन। पवन ने रुख बदले, रजनीगंधा का सुगंध आया- सुगंधित हो उठा वातावरण। उत्पत्ति देश मैक्सिको की, विश्व के चुनिन्दा देशों

folder_open poem
Read more

वाह्य व अन्तर

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinआवश्यक है संगीत सुन्दर हो, पुलकित मन का अन्तर हो। कोलाहल तो आक्रान्त करता है, झूमे धरती गूँजता अम्बर हो। #गयशिर Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinआवश्यक है संगीत सुन्दर हो, पुलकित मन का अन्तर हो। कोलाहल तो आक्रान्त करता है, झूमे धरती गूँजता अम्बर हो। #गयशिर Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open Some Lines
Read more

साथ है

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin #गयशिर Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin #गयशिर Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open Some Lines
Read more

ख़त्म नहीं होती (Does not end)

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Looking over does not end. Hope does not end. Breathing when moving up are- The effort does not end. – Gayshir Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Looking over does not end. Hope does not end. Breathing when moving up are- The effort does not end. – Gayshir Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open Some Lines
Read more

अच्छा संयोग

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin घास की आड़ में- जड़ में दीवार के, शिकारी छुपा था, करने को शिकार। बिलांग भर ऊपर, शिकार का घर, बाहर थे बड़े, बच्चे ताक-झांक में, मग्न थे- खेल में, ख़तरों से अन्जान।

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin घास की आड़ में- जड़ में दीवार के, शिकारी छुपा था, करने को शिकार। बिलांग भर ऊपर, शिकार का घर, बाहर थे बड़े, बच्चे ताक-झांक में, मग्न थे- खेल में, ख़तरों से अन्जान।

folder_open poem
Read more

गारन्टी

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open poem
Read more

बदलती जगह

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open poem
Read more

Some Lines:04,मानव की पूजा

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin मानव धर्म से बड़ा, न धर्म कोई दूजा। मानवों की सेवा मानव की है, सबसे बड़ी पूजा। पुरस्कृत करती सभी को, दण्डित भी करती है प्रकृति, दण्ड भुगतना पड़ता है, राजा हो या

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin मानव धर्म से बड़ा, न धर्म कोई दूजा। मानवों की सेवा मानव की है, सबसे बड़ी पूजा। पुरस्कृत करती सभी को, दण्डित भी करती है प्रकृति, दण्ड भुगतना पड़ता है, राजा हो या

folder_open Some Lines
Read more

Some Lines:03,अंधेरा-उजाला

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin दया का पात्र, कोई भी हो सकता है। अंधेरा के कारण ही, उजाला दिखता है। पूरा कोई अधुरा, कोई दोनों से भी कम, सामर्थ्यवान किसी का भी, सहायक बन सकता है। “””गयशिर””” Share

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin दया का पात्र, कोई भी हो सकता है। अंधेरा के कारण ही, उजाला दिखता है। पूरा कोई अधुरा, कोई दोनों से भी कम, सामर्थ्यवान किसी का भी, सहायक बन सकता है। “””गयशिर””” Share

folder_open Some Lines
Read more

उद्भव

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinएक का सबके लिए ———————————— Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinएक का सबके लिए ———————————— Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open Some Lines
Read more

Some Lines:01पत्थरों की भीड़

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinबढ़ रही भीड़, बेजान पत्थरों की। विकास की ख़ातिर, हत्या पेड़ों की। टूट रहे पर्वत, उजड़ रही हरियाली। ख़तरे में सल्तनत, जंगली शेरों की।। Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedinबढ़ रही भीड़, बेजान पत्थरों की। विकास की ख़ातिर, हत्या पेड़ों की। टूट रहे पर्वत, उजड़ रही हरियाली। ख़तरे में सल्तनत, जंगली शेरों की।। Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin

folder_open Some Lines
Read more

काला कुत्ता रास्ता काटा

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin क्या बताउँ उस दिन? क्या हो गया साथ? याद नहीं कुछ देर की, शेष सभी स्मरण साथ – दुपहिया वाहन और चौड़ी सड़क – जैसे नया काला कपड़ा कड़क, लेकिन थी विभाजक/डिवाइडर बिन

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin क्या बताउँ उस दिन? क्या हो गया साथ? याद नहीं कुछ देर की, शेष सभी स्मरण साथ – दुपहिया वाहन और चौड़ी सड़क – जैसे नया काला कपड़ा कड़क, लेकिन थी विभाजक/डिवाइडर बिन

folder_open uncategorized
Read more

पहले और अब

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin दो दिन पहले कोहरा था, जाड़े का असर गहरा था, सुबह धुन्धली, दोपहर बाद साफ़- गर्मी पढ़ रहा ककहरा था । रास्तों पे उड़ रहे धूल- सूखने लगे हैं कोमल फूल, कांटे होने

event_note
close

Share this…FacebookPinterestTwitterLinkedin दो दिन पहले कोहरा था, जाड़े का असर गहरा था, सुबह धुन्धली, दोपहर बाद साफ़- गर्मी पढ़ रहा ककहरा था । रास्तों पे उड़ रहे धूल- सूखने लगे हैं कोमल फूल, कांटे होने

folder_open uncategorized
Read more