खिड़की से

सीमित परन्तु दुनियाँ दिखती है, राह चलता इनसान दिखता है। बेचने ख़रीदने वालों के भाव- बिका हुआ सामान दिखता है। हवा नहीं, आती है दवा भी- कुम्हलाहट से उबरने की। अवसर मिलती है ताज़गी को,

Advertisements
event_note
close

सीमित परन्तु दुनियाँ दिखती है, राह चलता इनसान दिखता है। बेचने ख़रीदने वालों के भाव- बिका हुआ सामान दिखता है। हवा नहीं, आती है दवा भी- कुम्हलाहट से उबरने की। अवसर मिलती है ताज़गी को,

Advertisements
folder_open uncategorized
Read more