artpens

धुन्धली रात

कोहरे से भरी रात, 

कठिन होती सरल बात, 

बेदम होती है रौशनी, 

दूर एक रंग-सात।

           :- गयशिर

2 thoughts on “धुन्धली रात”

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: